Night Earth

Agartala, Tripura, India

नक्शा लोड हो रहा है...

अगरतला भारत के पूर्वोत्तर राज्य त्रिपुरा की राजधानी है। यह शहर हौरा नदी के तट पर स्थित है और हरी-भरी पहाड़ियों से घिरा हुआ है। 2021 तक इसकी आबादी लगभग 522,613 है। यह शहर संस्कृति और वाणिज्य का एक जीवंत केंद्र है, और यह अपनी विविध जातीयता, मंदिरों, महलों और पार्कों के लिए जाना जाता है।

जब रात की रोशनी की बात आती है, तो अगरतला को मामूली प्रकाश-प्रदूषित शहर के रूप में वर्णित किया जा सकता है। शहर के ऊपर आसमान की चमक मुख्य रूप से पीले-नारंगी रंग की है, जो उच्च दबाव वाले सोडियम लैंप की उपस्थिति का संकेत देती है। ये लैंप शहर में स्ट्रीटलाइट्स, पार्किंग स्थल और अन्य बाहरी प्रकाश व्यवस्था में सबसे अधिक उपयोग किए जाते हैं। नतीजतन, शहर का क्षितिज पीले-नारंगी रंग से रोशन होता है, जिसे दूर से देखा जा सकता है।

अगरतला में प्रकाश प्रदूषण मुख्य रूप से शहर के तेजी से हो रहे शहरीकरण और कृत्रिम प्रकाश व्यवस्था में वृद्धि के कारण होता है। शहरी विस्तार ने स्ट्रीटलाइट्स, वाणिज्यिक भवनों और आवासीय परिसरों की स्थापना की है, जो समग्र प्रकाश प्रदूषण में योगदान करते हैं। इसके अलावा, घरों और व्यावसायिक प्रतिष्ठानों में रात भर रोशनी छोड़ने की आदत प्रकाश प्रदूषण में और इजाफा करती है।

शहर के सबसे प्रमुख स्थलों में उज्जयंत पैलेस, त्रिपुरा सुंदरी मंदिर और नीरमहल पैलेस शामिल हैं। उज्जयंत पैलेस, एक पूर्व शाही महल, अब एक संग्रहालय है और शहर में एक महत्वपूर्ण पर्यटक आकर्षण के रूप में कार्य करता है। महल विशेष अवसरों और त्योहारों के दौरान जीवंत रंगीन रोशनी से रोशन होता है, जो शहर की रात की रोशनी में इजाफा करता है।

उदयपुर में स्थित त्रिपुरा सुंदरी मंदिर, शहर का एक और महत्वपूर्ण स्थल है। यह मंदिर देवी त्रिपुर सुंदरी को समर्पित है, और यह भारत के 51 शक्तिपीठों में से एक है। दुर्गा पूजा उत्सव के दौरान मंदिर रंगीन रोशनी से जगमगाता है, जो राज्य के सबसे बड़े त्योहारों में से एक है।

रुद्रसागर झील के तट पर स्थित नीरमहल पैलेस झील के बीच में बना एक खूबसूरत महल है। महल विशेष अवसरों के दौरान रोशनी से रोशन होता है, और पानी में महल का प्रतिबिंब शहर की समग्र रात की रोशनी में जुड़ जाता है।

अगरतला के लोग अपने मिलनसार और मेहमाननवाज स्वभाव के लिए जाने जाते हैं। शहर की संस्कृति बंगाली, त्रिपुरी और मणिपुरी परंपराओं का मिश्रण है, और लोग साल भर कई तरह के त्योहार मनाते हैं। शहर की अर्थव्यवस्था काफी हद तक कृषि, पर्यटन और लघु उद्योगों पर आधारित है। राज्य सरकार ने शहर में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न परियोजनाओं की शुरुआत की है, जिसने शहर में आतिथ्य क्षेत्र के विकास में योगदान दिया है।

अगरतला समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और बढ़ती अर्थव्यवस्था वाला एक जीवंत शहर है। शहर की रात की रोशनी मध्यम रूप से हल्की-प्रदूषित होती है, और क्षितिज पीले-नारंगी रंग से रोशन होता है। प्रकाश प्रदूषण का प्राथमिक कारण तेजी से शहरीकरण के कारण कृत्रिम प्रकाश जुड़नार में वृद्धि है। उज्जयंत पैलेस, त्रिपुरा सुंदरी मंदिर और नीरमहल पैलेस सहित शहर के स्थलों को विशेष अवसरों के दौरान रोशनी से रोशन किया जाता है, जो शहर की समग्र रात की रोशनी में इजाफा करता है।